वयं रक्षाम: – आचार्य चतुरसेन शास्त्री

300.00

वयं रक्षाम:

आचार्य चतुरसेन शास्त्री

वयं रक्षाम: प्रागैतिहासिक अतीत की कृति है। इसके कथानक के मूलाधार राक्षसराज रावण तथा महापुरुष राम हैं।

‘‘इस उपन्यास में प्राग्वेदकालीन नर, नाग, देव, दैत्य-दानव, आर्य, अनार्य आदि विविध नृवंशों के जीवन के वे विस्मृत-पुरातन रेखाचित्र हैं, जिन्हें धर्म के रंगीन शीशे में देखकर सारे संसार ने अन्तरिक्ष का देवता मान लिया था। मैं इस उपन्यास में उन्हें नर-रूप में आपके समक्ष उपस्थित करने का साहस कर रहा हूँ। आज तक कभी मनुष्य की वाणी से न सुनी गयी बातें, मैं आपको सुनाने पर आमादा हूँ।…उपन्यास में मेरे अपने जीवन-भर के अध्ययन का सार है…’’

आचार्य चतुरसेन शास्त्री

पृष्ठ-407 रु300

✅ ASSURED DOOR-STEP DELIVERY ANYWHERE INDIA ✅ 24x7 CUSTOMER CARE ✅ PERFECT FOR URBAN, AND NON-URBAN PURCHASE ALIKE ✅ INSTANT WHATSAPP DELIVERY STATUS UPDATE ON ENQUIRY

Description

Vayam rakshamah – Acharya Chatursen Shastri

वयं रक्षाम: – आचार्य चतुरसेन शास्त्री

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “वयं रक्षाम: – आचार्य चतुरसेन शास्त्री”

Your email address will not be published. Required fields are marked *