मन के : सुर के – केशवचन्द्र वर्मा

195.00

मन के : सुर के
केशवचन्द्र वर्मा

केशव जी की संगीत विषयक अन्य कृतियाँ—‘कोशिश : संगीत समझने की’ तथा ‘राग और रस के बहाने’ एवं ‘शब्द की साख’ (रेडियो शिल्प)। उन्होंने कितना शोध किया होगा—पुराणों का अध्ययन, संगीतशास्त्र के दुर्लभ ग्रन्थों का पारायण, भारतीय इतिहास के विभिन्न कालों में से संगीतज्ञों के बारे में यदा-कदा मिलनेवाले सन्दर्भों का संकलन और कभी लोक प्रचलित किन्तु अब धीरे-धीरे विस्मृत होती जाती किंवदन्तियों का पुनरुद्धार—वास्तव में उनका यह कृतित्व आश्चर्यचकित कर देता है। इतना ही होता तो वह बड़ी उपलब्धि होती, पर इस बड़ी उपलब्धि का अनूठापन यह है कि इन कथाओं की शैली न तो कहीं बोझिल है और न कहीं शास्त्रज्ञान का आत्मप्रदर्शन। रचनाकार सहज, सरल रसमय विषय की अन्तर्निहित-रसधारा में स्वयं सहज भाव से बहता जाता है और अपने पाठक को भी अपने साथ बहा ले जाता है…

—धर्मवीर भारती (इस पुस्तक के ‘आमुख’ से)

पृष्ठ-112 रु195

✅ SHARE THIS ➷

Description

Man ke soor ke – Keshav Chandra Verma

मन के : सुर के – केशवचन्द्र वर्मा

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “मन के : सुर के – केशवचन्द्र वर्मा”

Your email address will not be published. Required fields are marked *