ध्वनियों के आलोक में स्त्री – मृणाल पाण्डे

150.00

ध्वनियों के आलोक में स्त्री
मृणाल पाण्डे

प्रख्यात लेखिका मृणाल पाण्डे की यह नवीनतम कृति संगीत-जगत के अनेक अनदेखे-ओझल वृत्तान्तों का आकलन है इसमें इन गायिकाओं-गवनहारियों के जीवन-संघर्ष का वर्णन है, जिनके सुर और संगीत का आलोक तो हमारे सामने है, लेकिन स्त्री होने के कारण और अपने समय-समाज की कथित कुलीनता के दायरे से बाहर होने के कारण जिन अवरोधों का पग-पग पर उन्हें सामना करना पड़ा, उस अँधेरे का कहीं कोई ज़िक्र नहीं करता गौहर जान से लेकर बेगम अख़्तर तक और मोघूबाई से लेकर गंगूबाई हंगल तक—कलाकारों की एक लम्बी फ़ेहरिस्त यहाँ हम देख सकते हैं, जिन्हें अकल्पनीय प्रतिकूल परिस्थितियों के बीच संगीत-साधना करनी पड़ी

वास्तव में संगीत के प्रसंग से पाण्डे ने इस किताब में सामाजिक-सांस्कृतिक इतिहास की उस दरार पर रोशनी डाली है, जिसका भरना अब तक बाक़ी है उन्होंने बेहद आत्मीयता से तमाम प्रसंगों का उल्लेख किया है, जिससे पुस्तक ने अकादमिक विवेचना के बजाय एक दिलचस्प अनौपचारिक पाठ की शक्ल ले ली है ज़ाहिर है, यह पाठक के दिल को छू लेती है

पृष्ठ-124 रु150

✅ SHARE THIS ➷

Description

Dhwaniyon ke aalok mein stree – Mrinal Pandey

ध्वनियों के आलोक में स्त्री – मृणाल पाण्डे

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “ध्वनियों के आलोक में स्त्री – मृणाल पाण्डे”

Your email address will not be published. Required fields are marked *