भारतीय संस्कृति और सेक्स – गीतेश शर्मा

125.00

भारतीय संस्कृति और सेक्स
गीतेश शर्मा

जहाँ तक ‘हिन्दू संस्कृति’ का प्रश्न है, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पुरोधाओं ने जिस रूप में इसकी व्याख्या की, पहले भी लिखा जा चुका है कि वह बहुत ही संकुचित और विकृत व्याख्या है, जो लोगों में इस संस्कृति के प्रति एक भ्रम पैदा करती है। जिन विद्वानों ने वास्तविकता पर आधारित तथ्यपरक व्याख्या की, उनको यह कहकर सिरे से ख़ारिज कर दिया गया कि उन पर पश्चिम के विद्वानों का प्रभाव है और वे एकांगी दृष्टि से संस्कृति को देखते हैं। जबकि सच्चाई यह है कि वेदों से प्रारम्भ कर भारतीय संस्कृति का समग्र रूप मनुष्य की समस्त जीवन-शैली के अच्छे-बुरे पक्ष को ज़ाहिर करता है, जो समय के अनुसार बदलती रही है।

हमारे देश में एक प्रचलन यह भी रहा है कि हम प्राचीन धार्मिक ग्रन्‍थों पर तिलक-चंदन चढ़ाते हैं, उनकी पूजा करते हैं, पर उन्हें पढ़ते नहीं हैं। पढ़ते तो संस्कृति के नाम पर जो दुष्प्रचार किया जाता रहा है, वह सम्भव नहीं था।

पृष्ठ 104 रु125

✅ SHARE THIS ➷

Description

Bhartiya sanskriti aur sex – Geetesh Sharma

भारतीय संस्कृति और सेक्स – गीतेश शर्मा

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “भारतीय संस्कृति और सेक्स – गीतेश शर्मा”

Your email address will not be published. Required fields are marked *