आत्मबोध के आयाम : भारतीय संगीत के अनाहतनाद – स्‍मृति शर्मा

500.00

आत्मबोध के आयाम : भारतीय संगीत के अनाहतनाद
स्‍मृति शर्मा

ज्ञान मनुष्य के लिए तभी सहायक होता है, जब वह अपने साथ-साथ समाज को ऊँचा उठाने का सामर्थ्‍य रखता हो और ब्रह्मज्ञान की सार्थकता तब होती है जब साधक अपने-आपको इतनी ऊँचाई तक ले जाए कि वह त्रिकालज्ञ बनाकर समाज को आत्मकल्याण के मार्ग में ले जाए। ब्रह्मज्ञानी के लोक और परलोक दोनों सुन्दर और सुखद हो जाते हैं, किन्तु ब्रह्मज्ञान प्राप्त करना अत्यन्त दुष्कर कार्य है। यह अध्यात्म के रास्ते चलकर भक्ति और रोग के धर्म को स्वीकृति प्रदान करके, कठिन साधना द्वारा प्राप्त किया जा सकता। अनाहतनाद की साधना ऐसी ही कठिन तपस्या है जिसे स्मृति शर्मा ने अपने अगम्य कार्य निष्ठा व अटूट मेहनत से पूर्ण किया। अनाहतनाद से आज के संगीत का जन्म हुआ है। भारतीय संगीत केवल मनोविनोद का साधन न होकर आत्मा को परमात्मा से जोड़ने के भक्ति मार्ग का परम कल्याणकारी साधन है। ‘आत्मबोध के आयाम’ रचना संगीत एवं अध्यात्म के पाठकों का पथ प्रशस्त करेगी। सुधीजन इससे निश्चित ही लाभान्वित होंगे।

पृष्ठ-192 रु500

✅ SHARE THIS ➷

Description

Aatmbodh ke ayam bhartiya sangeet ke anahatnad – Smriti Sharma

आत्मबोध के आयाम : भारतीय संगीत के अनाहतनाद – स्‍मृति शर्मा

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “आत्मबोध के आयाम : भारतीय संगीत के अनाहतनाद – स्‍मृति शर्मा”

Your email address will not be published. Required fields are marked *