मेरे सपने मेरी सोच – तर्कशील लेख संग्रह

120.00

डा. राजा राम हंडिआया

 

डा. राजा राम हंडिआया एक प्रमुख तर्कशील, लेखक तथा साहित्य प्रेमी हैं। उन्होने पंजाब को धरती पर जन्म ले कर, उच्च योग्यतायें प्राप्त की हैं तथा ढेर सारा पंजाबी, हिन्दी व अंग्रजी साहित्य पढ़ा है । 1982 में वह हरियाणा चले गये तथा 1984 में अध्यापन कार्य शुरू क्या । जल्दी ही उन्होने हरियाणा में तर्कशीलता का परचम लहराया जो अब तक शान से फहरा रहा है । लम्बे समय तक हरियाणा की तर्कशील संस्था के अध्यक्ष रहे हैं ।

उन्होने केवल पंजाब तथा हरियाणा ही नहीं, बल्कि पूरे भारत मे घूम फिर कर तर्कशील तथा वैज्ञानिक विचारधारा का प्रचार प्रसार किया है । इस लम्बे अर्से के दौरान उन्हें अनेक खट्टे-मीठे तजुर्वे हासिल हुए हैं । राजाराम हंडिआया ने पहले भी तीन पुस्तकें (1) परमात्मा कब, कहां और कैसे? (2) कैसा गुरू कैसी मुक्ति? (3) लेकिन ये सच हैं, पंजाबी तथा हिन्दी भाषा में लिखी हैं । यह उनकी चौथी पुस्तक है जो समाज की कुरीतियों तथा अंधविश्वासों पर चोट करते हुए एक नई जीवन-जाच सिखाती है । उम्मीद है कि पाठकगण इस पुस्तक को भी पहली पुस्तकों की भान्ति पसंद करेंगे।

– मेघराज मित्र, संस्थापक : तर्कशील सोसायटी

Tarksheel Lekh

रु 120

Category:
Share link on social media or email or copy link with the 'link icon' at the end:

Description

Mere Sapne Meri Soch – Tarkshil Lekh Sangrah

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “मेरे सपने मेरी सोच – तर्कशील लेख संग्रह”

Your email address will not be published. Required fields are marked *