मानवता का वध

60.00

आर पी गांधी

 

लेखक आर. पी. गान्धी अपनी पुस्तक “मानवता का वध’ की मूल को लिखवाते हुए।  साथ में श्री शिवदयाल सिंह मूल प्रति लिखते हुए।

1. श्री आर. पी. गान्धी द्वारा चावलों से भरा लोटा चाकुद्वारा उठाया जाना।
2. डा. इन्द्रजीत कमल जिह्वा में सें त्रिशूल निकालते हुए।
3. डा. इन्द्रजीत कमल एक फूल से एक बहुत बड़ा गुलदस्ता बनाते हुए।

Tarksheel / Tarkshil 

रु 60

Category:
Share link on social media or email or copy link with the 'link icon' at the end:

Description

Manavata Ka Vadh

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “मानवता का वध”

Your email address will not be published. Required fields are marked *