sapiens by

Showing all 7 results

Show Grid/List of >5/50/All>>
  • सेपियन्स - मानव जाति का संक्षिप्त इतिहास

    सेपियन्स – मानव जाति का संक्षिप्त इतिहास

    599.00
    Add to cart

    सेपियन्स – मानव जाति का संक्षिप्त इतिहास

    डॉ युवाल नोआ हरारी

    डॉ. युवाल नोआ हरारी द्वारा लिखित किताब ‘सेपियन्स’ में मानव जाति के संपूर्ण इतिहास को अनूठे परिप्रेक्ष्य में अत्यंत सजीव ढंग से प्रस्तुत किया गया है। यह प्रस्तुतिकरण अपने आप में अद्वितीय है। प्रागैतिहासिक काल से लेकर आधुनिक युग तक मानव जाति के विकास की यात्रा के रोचक तथ्यों को लेखक ने शोध पर आधारित आँकडों के साथ इस तरह शब्दों में पिरोया है कि यह किताब निश्चित रूप से मॉर्डन क्लासिक किताबों की श्रेणी में शुमार होगी।

    करीब 100,000 साल पहले धरती पर मानव की कम से कम छह प्रजातियाँ बसती थीं, लेकिन आज स़िर्फ हम (होमो सेपियन्स) हैं। प्रभुत्व की इस जंग में आख़िर हमारी प्रजाति ने कैसे जीत हासिल की? हमारे भोजन खोजी पूर्वज शहरों और साम्राज्यों की स्थापना के लिए क्यों एकजुट हुए? कैसे हम ईश्वर, राष्ट्रों और मानवाधिकारों में विश्वास करने लगे? कैसे हम दौलत, किताबों और कानून में भरोसा करने लगे? और कैसे हम नौकरशाही, समय-सारणी और उपभोक्तावाद के गुलाम बन गए? आने वाले हज़ार वर्षों में हमारी दुनिया कैसी होगी? इस किताब में इन्हीं रोचक सवालों के जवाब समाहित हैं।

    ‘सेपियन्स’ में डॉ. युवाल नोआ हरारी ने मानव जाति के रहस्यों से भरे इतिहास का विस्तार से वर्णन किया है। इसमें धरती पर विचरण करने वाले पहले इंसानों से लेकर संज्ञानात्मक, कृषि और वैज्ञानिक क्रांतियों की प्रारम्भिक खोजों से लेकर विनाशकारी परिणामों तक को शामिल किया गया है। लेखक ने जीव-विज्ञान, मानवशास्त्र, जीवाश्म विज्ञान और अर्थशास्त्र के गहन ज्ञान के आधार पर इस रहस्य का अन्वेषण किया है कि इतिहास के प्रवाह ने आख़िर कैसे हमारे मानव समाजों, हमारे चारों ओर के प्राणियों और पौधों को आकार दिया है। यही नहीं, इसने हमारे व्यक्तित्व को भी कैसे प्रभावित किया है।

    डॉ युवाल नोआ हरारी
    डॉ युवाल नोआ हरारी के पास ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से इतिहास में पीएचडी है और अब वे हिब्रू विश्वविद्यालय में विश्व इतिहास के विशेषज्ञ हैं। सेपियन्स : मानव जाति का एक संक्षिप्त इतिहास ने विश्व भर से प्रशंसक हासिल किये हैं, इन में बिल गेट्स, बराक ओबामा और जर्विस कॉकर जैसे नाम शामिल हैं। इसे अब तक 50 से अधिक भाषाओं में प्रकाशित किया जा चुका है। यह संडे टाइम्स में नंबर एक बेस्टसेलर रही और पेपरबैक रूप में नौ महीने से अधिक के लिए शीर्ष दस में थी। ‘द गार्जियन’ द्वारा सेपियन्स को उत्कृष्ट, सबसे अधिक पढ़ने योग्य और इस सदी की सबसे महत्वपूर्ण किताब के रूप में वर्णित किया गया है।
    प्राफेसर हरारी नियमित रूप से अपनी किताबों और लेखों में खोजे गए विषयों पर दुनिया भर में व्याख्यान देते हैं। वे गार्जियन, फाइनेंशियल टाइम्स, द टाइम्स, नेचर पत्रिका और वॉल स्ट्रीट जर्नल जैसे समाचार पत्रों के नियमित रूप से लेख भी लिखते हैं। वह स्वैच्छिक आधार पर विभिन्न संगठनों और दर्शकों को अपना ज्ञान और समय भी प्रदान करते हैं।

    Sapiens  Hindi – Manav Jati Ka Samkshipt Itihas

    डिलीवरी पर नकद / ऑनलाइन पेमेंट  उपलब्ध
    पृष्ठ 454   रु599

    599.00
  • Sapiens in Gujarati - by Harari - સેપિયન્સ - માનવજાતિનો સંક્ષિપ્ત ઇતિહાસ : યુવલ નોઆ હરારી

    સેપિયન્સ – માનવજાતિનો સંક્ષિપ્ત ઇતિહાસ : યુવલ નોઆ હરારી 

    499.00
    Add to cart

    સેપિયન્સ – માનવજાતિનો સંક્ષિપ્ત ઇતિહાસ : યુવલ નોઆ હરારી 

    સેપિયન્સ – માનવજાતિનો સંક્ષિપ્ત ઇતિહાસ
    યુવલ નોઆ હરારી

     

    1,00,000 વર્ષ પહેલાં પૃથ્વી પર અલગ-અલગ છ માનવ પ્રજાતિઓ રહેતી હતી….અને આજે માત્ર એક જ પ્રજાતિ રહી છે… અને તે છે. હોમો સેપિયન્સ એટલે કે ‘આપણે’.

    જો તમે માનતા હો કે સ્કૂલ, કૉલેજ કે પૌરાણિક વાર્તાઓમાંથી તમે જે શીખ્યા છો તે જ સાચું છે, તો તમે એક મોટા ભ્રમમાં છો!

    આ Global Bestseller પુસ્તક તમારી આંખો ખોલશે અને તમને શીખવશે કે… કેવી રીતે આપણે સાધારણ વાંદરાઓમાંથી પૃથ્વીના શાસક બની ગયા? પૃથ્વી ઉપર વર્ચસ્વની લડાઈમાં આપણે કેવી રીતે સફળ થયા? ખોરાક શોધવા માટે ભટકતા આપણા પૂર્વજો, નગરો અને રાજવંશોનું નિર્માણ કરવા માટે કેમ ભેગા થયા? આપણે ઈશ્વર, રાષ્ટ્ર અને માનવ અધિકારોમાં વિશ્વાસ કરવાનું કેવી રીતે શરૂ કર્યું? કેવી રીતે આપણે નિયમો, મૂલ્યો અને આદર્શોની રચના કરીને લોકોનાં મનનું પ્રોગ્રામિંગ કર્યું? આવનારાં હજારો વર્ષોમાં આપણી દુનિયા કેવી હશે?

    આ માહિતીપ્રદ Global Bestseller પુસ્તક તમારી સદીઓ જૂની માન્યતાઓ અને વિચારો સામે પ્રશ્નાર્થ ઊભા કરી તમારા વિચારો, કર્મો અને શક્તિઓનો તમારા ઊજળા ભવિષ્ય માટે કેવી રીતે ઉપયોગ કરી શકાય તેની સાચી દિશા પૂરી પાડશે.

    ‘Sapiens’ in Gujarati 

    પૃષ્ઠ 466 કિંમત રૂ499

    499.00
  • সেপিয়েন্স – মানবজাতির সংক্ষিপ্ত ইতিহাস

    599.00
    Add to cart

    সেপিয়েন্স – মানবজাতির সংক্ষিপ্ত ইতিহাস

    সেপিয়েন্স – মানবজাতির সংক্ষিপ্ত ইতিহাস
    ইউভাল নোয়া হারারি

     

    দশ লক্ষ বছর আগে, অন্তত ছয়টি মানব প্রজাতি পৃথিবীতে বাস করেছিল। আজ একটিই বর্তমান। আমরা – হোমো সেপিয়েন্স। কীভাবে আমাদের প্রজাতি তার আধিপত্যের লড়াইয়ে সফল হয়েছিল? আমাদের পূর্বপুরুষরা, যারা খাদ্য সন্ধানী ছিল, কেন শহর ও জাতি গঠনের জন্য একত্রিত হয়েছিল? আমরা কীভাবে দেবতা, জাতি এবং মানবাধিকারে বিশ্বাস করতে শুরু করলাম ? আগামী সহস্রাব্দে আমাদের পৃথিবী কেমন হবে?

    সাহসী, বিস্তৃত এবং চিন্তার উদ্রেককারী ‘সেপিয়েন্স’ চ্যালেঞ্জ করে যা আমরা ভেবেছিলাম আমরা মানুষ হওয়ার বিষয়ে জানি – আমাদের চিন্তা, আমাদের কাজ, আমাদের শক্তি – আমাদের ভবিষ্যত।

    “আমাদের প্রজাতির ইতিহাস এবং ভবিষ্যৎ সম্পর্কে আগ্রহী যে কোনো ব্যক্তিকে এই বইটির সুপারিশ করব” – বিল গেটস

    “এটি একটি সহজ কারণ যে সেপিয়েন্স আন্তর্জাতিক বহুবিক্রিত শীর্ষে বিস্ফোরিত হয়েছে – এটি ইতিহাস এবং আধুনিক বিশ্বের ভয়াবহ প্রশ্নগুলির সাথে মোকাবিলা করে। এটি অবিস্মরণীয় ভাষায় লেখা” – জ্যারেড ডায়মন্ড

    পৃষ্ঠা ৬২৪  মূল্য- ৫৯৯/-

    599.00
  • सेपिअन्स – मानवजातीचा अनोखा इतिहास

    499.00
    Add to cart

    सेपिअन्स – मानवजातीचा अनोखा इतिहास

    सेपिअन्स – मानवजातीचा अनोखा इतिहास
    युव्हाल नोआ हरारी

     

    “१ लाख वर्षांपूर्वी मानवाच्या कमीत कमी ६ उपजाती पृथ्वीवर राहत होत्या. आज फक्त एकच शिल्लक आहे. आपण. होमो सेपिअन्स. आपण पृथ्वीवर आपली अधिसत्ता कशी स्थापन केली? आपल्या भटक्या पूर्वजांनी एकत्र येऊन शहरे आणि राज्यांची कशी स्थापन केली? देव, राजे आणि मानवी हक्क अशा गोष्टींवर आपण कसे काय विश्वास ठेवू लागलो? आणि येणाऱ्या सहस्रकांमध्ये आपले जग कसे असेल? मानवाची विचारपद्धती, वर्तन, बलस्थाने आणि मानवाचे भविष्य याबद्दलच्या आपल्या सर्व समजुतींना आव्हान देणारं एक विचारप्रवर्तक पुस्तक…सेपिअन्स. ”

    मराठी अनुवाद 

    पृष्ठे 452  मूल्य रु499

    499.00
  • సేపియన్స్ – మానవజాతి పరిణామక్రమం సంక్షిప్త చరిత్ర

    599.00
    Add to cart

    సేపియన్స్ – మానవజాతి పరిణామక్రమం సంక్షిప్త చరిత్ర

    సేపియన్స్ –
    మానవజాతి పరిణామక్రమం సంక్షిప్త చరిత్ర
    యువల్ నోహ్ హరారి

     

    డెబ్బయి వేల సంవత్సరాల క్రితం భూతలం పై ఆరు వేర్వేరు మానవ జాతులు ఉండేవి. అవి సర్వ సాధారణ జంతువులు, వాటి ప్రభావం పర్యావరణం పై మిణుగురు పురుగులు, జెల్లీ చేపల కన్నా తక్కువగా ఉండేది. నేడు ఒకే ఒక మానవ  జాతి మిగిలింది, అది మనం. హోమో సేపియన్స్. అయితే భూమి ఇప్పుడు మన పాలనలో ఉంది.సేపియన్స్ పుస్తకం పరిణామ దశనుండి పెట్టుబడి దారీ వ్యవస్థ,  జన్యు సాంకేతికత వరకు మానవచరిత్రను ఉత్కంఠ భరితం గా వివరించి మనం ఎందుకు ఇలా ఉన్నామో వెలికి తీస్తుంది.

    సేపియన్స్ పుస్తకం మానవ జాతి, దాని చుట్టూ వున్న ప్రపంచం రూపొందిన విధాన ప్రక్రియ పై దృష్టి పెడుతుంది. అంటే వ్యవసాయం రాకడ, సంపద సృష్టి, మత వ్యాప్తి, జాతీయ రాజ్యాల పెరుగుదల లాంటివి. ఈ రకమైన ఇతర పుస్తకాలలో ఉన్నట్టుగా కాకుండా, ఇంతకు ముందెన్నడూ లేని విధంగా సేపియన్స్  పుస్తకం చరిత్ర, జీవ శాస్త్రం, తత్వ శాస్త్రం, ఆర్ధిక శాస్త్రం లాంటి బహుళ విషయాల మధ్య ఉన్న ఖాళీని పూరిస్తూ సాగుతుంది. ఇంకా, స్థూల మరియు సూక్ష్మ దృష్టి తో  ఎందుకు, ఎలా ఈ పరిణామాలు జరిగాయో, అవి వ్యక్తుల పై ఎలాంటి ప్రభావం చూపాయా సేపియన్స్ తెలియజేస్తుంది. సేపియన్స్ పుస్తకం గత పరిణామాలను నేటి ఆలోచనలతో అనుసందించటమే కాకుండా మనలను ప్రశ్నలు సంధించడానికి ఆహ్వానిస్తుంది.

    పుస్తకం ముగింపు జ్ఞానాన్నివ్వడమేకాక కొన్ని సార్లు రెచ్చగొడుతుంది. ఉదాహరణకు :

    మనం ప్రపంచాన్ని పాలిస్తున్నాము, ఎందుకంటే దేవుళ్ళు, రాజ్యాలు,  ధనం, మానవ హక్కులు లాంటి ఊహాజనిత విషయాలను విశ్వసించే మరో జంతువు మరేదీ లేదు కనుక.

    సేపిఏన్లు పర్యావరణ వరుస హంతకులు. మన పూర్వీకులు వ్యవసాయం రాకముందే రాతి పనిముట్లతోనే భూమి పైని గొప్ప క్షీరదాలను తుడిచి పెట్టారు.

    వ్యవసాయ విప్లవం చరిత్రలో అతి పెద్ద మోసం. గోధుమలు సేపియన్లను ఇంటికి పరిమితం చేశాయి మరో మార్గం లేకుండా.

    ధనం అనేది ఇప్పటివరకు కనుగొన్న వాటిలో విశ్వజనీనమైన పరస్పర విశ్వాస సాధనం. ధనం ఒక్కటే అందరూ విశ్వసించేది.

    మానవులు కనుగొన్న విజయవంతమైన రాజకీయ వ్యవస్థ సామ్రాజ్యం. ఈనాటి సామ్రాజ్యవాద వ్యతిరేక ధోరణి స్వల్పకాలిక వైకల్యం.

    పెట్టుబడిదారీ విధానం ఒక ఆర్థిక సూత్రం కాదు, అది ఒక మతం. ఇప్పటి వరకు అది అత్యంత విజయవంతమైన మతం.

    ఆధునిక వ్యవసాయం లో జంతువులను హింసించడం చరిత్రలో అత్యంత క్రూరమైన నేరం కావొచ్చు.
    రాజ్యం మరియూ వ్యాపారం పెంపొందించిన వ్యక్తివాదం కుటుంబాలను సమాజాన్ని విచిన్నం చేస్తున్నది.

    మనం మన పూర్వీకులకన్న శక్తివంతులం, అలాగని  మిక్కిలి సంతోషవంతులుగా ఏమీ లేము.

    సేపియన్స్ త్వరలోనే అదృశ్యమయి పోతారు. ఆధునిక సాంకేతికత సాయంతో కొన్ని శతాబ్దాలు లేదా దశాబ్దాలలో సేపియన్లు పూర్తి భిన్నమైన జీవులుగా అభివృద్ధి చెందుతారు. దైవ లక్షణాలను, సామర్ధ్యాలను అనుభవిస్తారు. మానవులు  దైవాన్ని కనుగొనడం తో చరిత్ర ప్రారంభం అయ్యింది – మానవులు దేవుళ్ళు గా మారడంతో అది అంతం అవుతుంది.

    సేపియన్స్ పుస్తకం అంతర్జాతీయంగా అత్యంత అధికంగా అమ్ముడయ్యే పుస్తకం కావడానికి ఒక చిన్న కారణం ఉంది. ఆధునిక ప్రపంచ చరిత్ర లోని అతిపెద్ద ప్రశ్నల్ని  అది పరిష్కరిస్తుంది. ఇంకా అది మరువలేనంత సరళమైన భాషలో రాశారు, మీరు దీన్ని ఇష్టపడుతారు. -జేరెడ్ డైమండ్, పులిట్జర్ బహుమతి పొందిన రచయిత ,గన్స్,జర్మ్స్ అండ్ స్టీల్ పుస్తక రచయిత

    డాక్టర్ యువల్ నోవా హరారీ ఆక్స్ ఫర్డ్ యూనివర్సి టి నుం చి చరితల్రో పి. హెచ్. డి తీసుకున్నా రు.
    ప్రస్తుతం జెరూసలేమ్ హిబ్రూ యునివర్సిటిలో చేస్తున్నా రు. ప్రపంచ చరిత్ర గురిం చి పత్ర్యే కం గా సేపియన్స్ , హొమో డియూస్ వంటి ప్రపంచ ప్రసిద్ధి గాంచిన పుస్తకాలు రాశారు.

     పేజీలు 432  ధర రూ599

    599.00
  • சேப்பியன்ஸ்

    சேப்பியன்ஸ்

    599.00
    Add to cart

    சேப்பியன்ஸ்

    யுவால் நோவா ஹராரி

     

    இது மனிதனின் கதை. வாலில்லாக் குரங்கிலிருந்து வந்த அவன், உலகை ஆட்டிப் படைக்கும் ஒருவனாக விசுவரூபம் எடுத்துள்ளது பற்றிய கதை இது. நம் இனத்தின் கதையை இவ்வளவு அழகாகவும், சுவாரசியமாகவும், விறுவிறுப்பாகவும், செறிவாகவும், சிந்தனையைத் தூண்டும் விதத்திலும் கூற முடியுமா? நம்மை மலைக்க வைக்கிறார் ஹராரி.
    நம்மை மருள வைக்கின்ற எண்ணற்ற விஷயங்கள் இதில் இடம்பெற்றுள்ளன. அவற்றில் சில:

    • மனிதன் கண்டுபிடித்துள்ள மதங்களிலேயே வெற்றிகரமான மதம் முதலாளித்துவம்தான்.

    • வரலாற்றில் இழைக்கப்பட்டுள்ள குற்றங்களிலேயே மிகக் கடுமையான குற்றம் நவீன வேளாண்மையில் விலங்குகள் நடத்தப்படுகின்ற விதம்தான்.

    • தற்கால மனிதர்களாகிய நாம் கற்கால மனிதர்களைவிட அப்படியொன்றும் அதிக மகிழ்ச்சியாக இல்லை.

    வரலாற்றைத் திரும்பிப் பார்ப்பதே படிப்பினைகளைக் கற்றுக் கொள்ளத்தானே? நம் மூதாதையரின் தவறுகளிலிருந்து நாம் பாடம் கற்றுக் கொள்ளாவிட்டால் மனிதகுலத்திற்கு என்ன நிகழும் என்பதை எச்சரிக்கத் தவறவில்லை இந்நூலாசிரியர்.
    அமர்க்களமான எழுபதாயிரம் ஆண்டுகால வரலாற்றுச் சுற்றுலாவிற்கு உங்களைத் தயார்படுத்திக் கொண்டு உள்ளே நுழையுங்கள்!

     

    ‘சேப்பியன்ஸ் – மனிதகுலத்தின் சுருக்கமான வரலாறு’

    சர்வதேச அளவில் அதிகம் விற்பனையாகும் புத்தகம் தமிழில்

     

    எழுத்தாளர் பற்றி:

    முனைவர் யுவால் நோவா ஹராரி ஆக்ஸ்போர்டு பல்கலைக்கழகத்திலிருந்து வரலாற்றில் முனைவர் பட்டம் பெற்றவர். அவர் இப்போது ஜெரூசலம் ஹீப்ரூ பல்கலைகழகத்தில் பேராசிரியராகப் பணியாற்றி வருகிறார். ‘உலக வரலாறு’ குறித்து அவர் தனித்துவமான ஆய்வுகள் நடத்தி வருகிறார். அவருடைய ஆய்வுகள், பின்வரும் பரந்த கேள்விகளுக்கு விடை காணுவதை நோக்கமாகக் கொண்டுள்ளன: வரலாற்றுக்கும் உயிரியலுக்கும் இடையேயான உறவு என்ன? வரலாற்றில் நியாயம் இருக்கிறதா? வரலாற்றின் ஊடாக மக்கள் அதிக மகிழ்ச்சி அடைந்தனரா? ஹராரி நடத்துகின்ற ‘மனிதகுலத்தின் ஒரு சுருக்கமான வரலாறு’ என்ற தலைப்புக் கொண்ட இணையவழிப் பயிற்சி வகுப்பில் 65,000க்கும் அதிகமானோர் பங்கு கொண்டு பயின்று வருகின்றனர். ஹோமோ டியஸ் என்ற இந்நூல் உலகம் நெடுகிலும் வெற்றிகரமாக விற்பனையாகிக் கொண்டிருக்கிறது. உலக அளவில் முப்பது மொழிகளில் இது பிரசுரிக்கப்பட்டுள்ளது. 2012ம் ஆண்டில் பேராசிரியர் ஹராரிக்குப் பொலோன்ஸ்கி விருது வழங்கப்பட்டது.

    Sapience / Sapians Sabiens Chapiens / Sabians / Sapience

    பக்கங்கள் 512   விலை ரூ 599

    599.00
  • Sapiens സാപിയൻസ് - മനുഷ്യരാശിയുടെ ഒരു ഹ്രസ്വചരിത്രം

    സാപിയൻസ് – മനുഷ്യരാശിയുടെ ഒരു ഹ്രസ്വചരിത്രം – യുവാൽ നോവ ഹരാരി

    599.00
    Add to cart

    സാപിയൻസ് – മനുഷ്യരാശിയുടെ ഒരു ഹ്രസ്വചരിത്രം – യുവാൽ നോവ ഹരാരി

    സാപിയൻസ് :
    മനുഷ്യരാശിയുടെ ഒരു ഹ്രസ്വചരിത്രം 
    ഡോ. യുവാൽ നോവാ ഹരാരി

    ഒരു ലക്ഷം വർഷങ്ങൾക്കു മുമ്പ്, കുറഞ്ഞത് ആറ് മനുഷ്യ സ്പീഷിസുകൾ ഭൂമിയിൽ അധിവസിച്ചിരുന്നു. ഇന്നാകട്ടെ ഒരെണ്ണം മാത്രം. നാം – ഹോമോ സാപിയൻസ് . ആധിപത്യത്തിനു വേണ്ടിയുള്ള പോരാട്ടത്തിൽ നമ്മുടെ സ്പീഷിസ് വിജയിച്ചതെങ്ങനെ? ഭക്ഷണം തേടിയലയലുകാരായ നമ്മുടെ പൂർവികർ നഗരങ്ങളും രാജ്യങ്ങളും സൃഷ്ടിക്കാൻ ഒന്നുചേർന്നത് എന്തുകൊണ്ടാണ് ? ദൈവങ്ങളിലും രാഷ്ട്രങ്ങളിലും മനുഷ്യാവകാശങ്ങളിലും നാം വിശ്വസിക്കാൻ ഇടയായതെങ്ങനെയാണ് ? വരാനിരിക്കുന്ന സഹസ്രാബ്ദങ്ങളിൽ നമ്മുടെ ലോകം എന്തായിരിക്കും?
    ധീരവും വിശാലവും ചിന്തോദ്ദീപകവുമായ ‘സാപിയൻസ് ‘ മനുഷ്യരായിരിക്കുന്നതിനെകുറിച്ചു നമുക്കറിയാം എന്നു നാം കരുതിയിരുന്ന എല്ലാത്തിനെയും – നമ്മുടെ ചിന്തകൾ, നമ്മുടെ പ്രവൃത്തികൾ, നമ്മുടെ ശക്തി… നമ്മുടെ ഭാവി – വെല്ലുവിളിക്കുന്നു.
    ” സാപിയൻസ് ഒരു സ്ഫോടനം പോലെ അന്തർദേശീയ ബെസ്റ് സെല്ലർ നിരയിലേക്കു ഉയർന്നതിനു ഒരു ലളിതമായ കാരണമിതാണ് – അതു ചരിത്രത്തിലെയും ആധുനിക ലോകത്തിലെയും ഗൗരവമേറിയ ചോദ്യങ്ങളെ കൈകാര്യം ചെയ്യുന്നു. അവിസ്മരണീയമായ ഭാഷയിൽ അത് എഴുതപ്പെട്ടിരിക്കുന്നു” ജാരെഡ് ഡയമണ്ട്.

    “നമ്മുടെ സ്പീഷിസിന്റെ ചരിത്രത്തിലും ഭാവിയിലും താല്പര്യമുള്ള ഏവർക്കും ഞാനിതു ശുപാർശ ചെയ്യും ” – ബിൽ ഗേറ്റ്സ്

     

    ഡോ. യുവാൽ നോവാ ഹരാരി ചരിത്രപഠനത്തിൽ ഓസ്‌ഫോർഡ് യൂണിവേഴ്സിറ്റിയിൽനിന്നും പി എഛ് ഡി കരസ്ഥമാക്കി. ഇപ്പോൾ ജറുസലേമിലെ ഹീബ്രൂ യൂണിവേഴ്സിറ്റിയിൽ ലോക ചരിത്രം പഠിപ്പിക്കുന്നു. അന്തർദേശീയ തലത്തിൽ ബെസ്റ് സെല്ലറായ “സാപിയൻസ്: മനുഷ്യരാശിയുടെ ഒരു ഹ്രസ്വചരിത്രം” മുപ്പതിലധികം ലോക ഭാഷകളിലേക്ക് വിവർത്തനം ചെയ്യപ്പെട്ടിട്ടുണ്ട്. മാനവിക വിഷയങ്ങളിൽനടത്തുന്ന മൗലികവും സർഗാത്മകവുമായ ഗവേഷണത്തിന് ഏർപ്പെടുത്തിയിട്ടുള്ള പോളോൻസ്കി പുരസ്‌കാരം 2012 ൽ ഹരാരിക്കു ലഭിച്ചു.

     

    പേജ് 544 വില രൂ599

     

     

    599.00