विमर्श

Showing all 2 results

Show Grid/List of >5/50/All>>
  • कैसा गुरु? कैसी मुक्ति?

    कैसा गुरु? कैसी मुक्ति?

    60.00
    Add to cart

    कैसा गुरु? कैसी मुक्ति?

    राजा राम हंडियाया

    तर्कशील सोसायटी हरियाणा के प्रधान श्री राजा राम हंडियाया की प्रथम पुस्तक ‘ परमात्मा कब कहां और कैसे ?” की सफल प्राप्ति के बाद यह दूसरी पुस्तक ” कैसा गुरू? कैसी मुक्ति ” भी अंधविश्वासों तथा धर्म, गुरू व मोक्ष की पुरातन व गैरवैज्ञानिक धारणाओं को खत्म करने व नई चेतना लाने में एक कारगर हथियार साबित होगी ।

    –  मेघ राज मित्र

    प्रधान तर्कशील सोसायटी भारत

    Tarksheel / Tarkshil 

    रु 60

    60.00
  • इकिगाई

    इकिगाई

    350.00
    Add to cart

    इकिगाई

    लम्बे और खुशहाल जीवन
    का जापानी रहस्य
    हेक्टर गार्सिया और फ़्रान्सेस्क मिरालेस

    इकिगाई के बारे में अंतरराष्ट्रीय बेस्टसेलिंग गाइड से जानें
    दीर्घायु होने और खुशहाल जीवन जीने का जापानी रहस्य

    जापान के लोग विश्वास करते हैं कि इकिगाई हर एक के भीतर छिपा होता है – यह हर सुबह नींद से जागने की वजह होती है। प्रेरणा और सांत्वना देने वाली यह पुस्तक आपको अपना व्यक्तिगत इकिगाई खोजने में मदद के लिए जीवन में परिवर्तन लाने वाले साधन उपलब्ध कराएगी। यह आपको दिखलाएगी कि कैसे अनावश्यक भार को पीछे छोड़कर अपना उद्देश्य हासिल किया जाए, मित्रता को विकसित किया जाए और स्वंय को अपने जुनून के लिए समर्पित किया जाए।

     

    लेखक के बारे में

    हेक्टर गार्सिया जापान के नागरिक हैं, जहाँ कि वह एक दशक से अधिक समय से रह रहे हैं। वह स्पेन के भी नागरिक हैं, जहाँ कि उनका जन्म हुआ था। वह जापानी संस्कृति के बारे में कर्इ पुस्तकों के लेखक हैं जिनमें से दो पुस्तकें – अ गीक इन जापान और इकिगार्इ दुनिया की बेस्टसेलर्स में शुमार हैं। पूर्व में सॉफ़्टवेयर इंजीनियर रहे हेक्टर जापान में बसने से पहले स्विट्ज़रलैंड के सी र्इ आर एन में काम कर चुके हैं।

    फ़्रान्सेस्क मिरालेस बेहतर जीवन कैसे जिएँ विषय पर पुरस्कार प्राप्त अंतरराष्ट्रीय बेस्ट सेलर किताबों के लेखक हैं। साथ ही उन्होंने लव इन स्मॉल लेटर्स और वाबी-साबी उपन्यास भी लिखे हैं। हेक्टर गार्सिया के साथ उनका जापान के ओकिनावा में स्वागत किया गया, जहाँ के निवासी दुनिया की किसी भी अन्य जगह से ज़्यादा लम्बा जीवन जीते हैं। वहाँ उन्हें सौ भी अधिक ग्रामीणों से उनकी लंबी और ख़ुशहाल ज़िंदगी के दर्शन के बारे में साक्षात्कार करने का मौक़ा मिला।

    Ikkigai / Ikigayi

    डीलक्स हार्ड बाउंड एडिशन
    पृष्ठ 194   रु350

    350.00