गैर काल्पनिक

Showing all 8 results

Show Grid/List of >5/50/All>>
  • सेपियन्स - मानव जाति का संक्षिप्त इतिहास

    सेपियन्स – मानव जाति का संक्षिप्त इतिहास

    599.00
    Add to cart

    सेपियन्स – मानव जाति का संक्षिप्त इतिहास

    डॉ युवाल नोआ हरारी

    डॉ. युवाल नोआ हरारी द्वारा लिखित किताब ‘सेपियन्स’ में मानव जाति के संपूर्ण इतिहास को अनूठे परिप्रेक्ष्य में अत्यंत सजीव ढंग से प्रस्तुत किया गया है। यह प्रस्तुतिकरण अपने आप में अद्वितीय है। प्रागैतिहासिक काल से लेकर आधुनिक युग तक मानव जाति के विकास की यात्रा के रोचक तथ्यों को लेखक ने शोध पर आधारित आँकडों के साथ इस तरह शब्दों में पिरोया है कि यह किताब निश्चित रूप से मॉर्डन क्लासिक किताबों की श्रेणी में शुमार होगी।

    करीब 100,000 साल पहले धरती पर मानव की कम से कम छह प्रजातियाँ बसती थीं, लेकिन आज स़िर्फ हम (होमो सेपियन्स) हैं। प्रभुत्व की इस जंग में आख़िर हमारी प्रजाति ने कैसे जीत हासिल की? हमारे भोजन खोजी पूर्वज शहरों और साम्राज्यों की स्थापना के लिए क्यों एकजुट हुए? कैसे हम ईश्वर, राष्ट्रों और मानवाधिकारों में विश्वास करने लगे? कैसे हम दौलत, किताबों और कानून में भरोसा करने लगे? और कैसे हम नौकरशाही, समय-सारणी और उपभोक्तावाद के गुलाम बन गए? आने वाले हज़ार वर्षों में हमारी दुनिया कैसी होगी? इस किताब में इन्हीं रोचक सवालों के जवाब समाहित हैं।

    ‘सेपियन्स’ में डॉ. युवाल नोआ हरारी ने मानव जाति के रहस्यों से भरे इतिहास का विस्तार से वर्णन किया है। इसमें धरती पर विचरण करने वाले पहले इंसानों से लेकर संज्ञानात्मक, कृषि और वैज्ञानिक क्रांतियों की प्रारम्भिक खोजों से लेकर विनाशकारी परिणामों तक को शामिल किया गया है। लेखक ने जीव-विज्ञान, मानवशास्त्र, जीवाश्म विज्ञान और अर्थशास्त्र के गहन ज्ञान के आधार पर इस रहस्य का अन्वेषण किया है कि इतिहास के प्रवाह ने आख़िर कैसे हमारे मानव समाजों, हमारे चारों ओर के प्राणियों और पौधों को आकार दिया है। यही नहीं, इसने हमारे व्यक्तित्व को भी कैसे प्रभावित किया है।

    डॉ युवाल नोआ हरारी
    डॉ युवाल नोआ हरारी के पास ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से इतिहास में पीएचडी है और अब वे हिब्रू विश्वविद्यालय में विश्व इतिहास के विशेषज्ञ हैं। सेपियन्स : मानव जाति का एक संक्षिप्त इतिहास ने विश्व भर से प्रशंसक हासिल किये हैं, इन में बिल गेट्स, बराक ओबामा और जर्विस कॉकर जैसे नाम शामिल हैं। इसे अब तक 50 से अधिक भाषाओं में प्रकाशित किया जा चुका है। यह संडे टाइम्स में नंबर एक बेस्टसेलर रही और पेपरबैक रूप में नौ महीने से अधिक के लिए शीर्ष दस में थी। ‘द गार्जियन’ द्वारा सेपियन्स को उत्कृष्ट, सबसे अधिक पढ़ने योग्य और इस सदी की सबसे महत्वपूर्ण किताब के रूप में वर्णित किया गया है।
    प्राफेसर हरारी नियमित रूप से अपनी किताबों और लेखों में खोजे गए विषयों पर दुनिया भर में व्याख्यान देते हैं। वे गार्जियन, फाइनेंशियल टाइम्स, द टाइम्स, नेचर पत्रिका और वॉल स्ट्रीट जर्नल जैसे समाचार पत्रों के नियमित रूप से लेख भी लिखते हैं। वह स्वैच्छिक आधार पर विभिन्न संगठनों और दर्शकों को अपना ज्ञान और समय भी प्रदान करते हैं।

    Sapiens  Hindi – Manav Jati Ka Samkshipt Itihas

    डिलीवरी पर नकद / ऑनलाइन पेमेंट  उपलब्ध
    पृष्ठ 454   रु599

    599.00
  • होमो डेयस - आने वाले कल का संक्षिप्त इतिहास

    होमो डेयस – आने वाले कल का संक्षिप्त इतिहास

    450.00
    Add to cart

    होमो डेयस – आने वाले कल का संक्षिप्त इतिहास

    युवाल नोआ हरारी

    बेस्टसेलिंग पुस्तक सेपियन्स: मन जाति का संक्षिप्त इतिहास के लेखक युवाल नोआ हरारी एक ऐसी दुनिया की कल्पना प्रस्तुत करते हैं जो बहुत ज़्यादा दूर नहीं है, और जिसमें हम सर्वथा नयी चुनौतियों का सामना करने वाले हैं।
    होमो डेयस उन परियोजनाओं, स्वप्नों और दुःस्वप्नो की पड़ताल करती है जो इक्कीसवीं सदी को आकार देने वाले हैं – मृत्यु पर विजय प्राप्त करने से लेकर कृत्रिम जीवन की रचना तक। यह किताब कुछ बुनियादी सवाल पूछती है: हम यहाँ से कहाँ जाएँगे? और हम अपनी ही विनाशकारी शक्तियों से इस नाज़ुक संसार की रक्षा कैसे करेंगे?

    सेपियन्स ने हमें बताया हम कहाँ से आये थे
    होमो डेयस हमें बताती है कि हम कहाँ जा रहे हैं

     

    डॉ. युवाल नोआ हरारी के पास ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से इतिहास में पीएचडी है और अब वे हिब्रू विश्वविद्यालय में विश्व इतिहास के विशेषज्ञ हैं। सेपियन्स : मानव जाति का एक संक्षिप्त इतिहास ने विश्व भर से प्रशंसक हासिल किये हैं, इन में बिल गेट्स, बराक ओबामा और जर्विस कॉकर जैसे नाम शामिल हैं। इसे अब तक 50 से अधिक भाषाओं में प्रकाशित किया जा चुका है। यह संडे टाइम्स में नंबर एक बेस्टसेलर रही और पेपरबैक रूप में नौ महीने से अधिक के लिए शीर्ष दस में थी। ‘द गार्जियन’ द्वारा सेपियन्स को उत्कृष्ट, सबसे अधिक पढ़ने योग्य और इस सदी की सबसे महत्वपूर्ण किताब के रूप में वर्णित किया गया है।
    प्राफेसर हरारी नियमित रूप से अपनी किताबों और लेखों में खोजे गए विषयों पर दुनिया भर में व्याख्यान देते हैं। वे गार्जियन, फाइनेंशियल टाइम्स, द टाइम्स, नेचर पत्रिका और वॉल स्ट्रीट जर्नल जैसे समाचार पत्रों के नियमित रूप से लेख भी लिखते हैं। वह स्वैच्छिक आधार पर विभिन्न संगठनों और दर्शकों को अपना ज्ञान और समय भी प्रदान करते हैं।

    पृष्ठ 428   रु450

    450.00
  • इकिगाई

    इकिगाई

    350.00
    Add to cart

    इकिगाई

    लम्बे और खुशहाल जीवन
    का जापानी रहस्य
    हेक्टर गार्सिया और फ़्रान्सेस्क मिरालेस

    इकिगाई के बारे में अंतरराष्ट्रीय बेस्टसेलिंग गाइड से जानें
    दीर्घायु होने और खुशहाल जीवन जीने का जापानी रहस्य

    जापान के लोग विश्वास करते हैं कि इकिगाई हर एक के भीतर छिपा होता है – यह हर सुबह नींद से जागने की वजह होती है। प्रेरणा और सांत्वना देने वाली यह पुस्तक आपको अपना व्यक्तिगत इकिगाई खोजने में मदद के लिए जीवन में परिवर्तन लाने वाले साधन उपलब्ध कराएगी। यह आपको दिखलाएगी कि कैसे अनावश्यक भार को पीछे छोड़कर अपना उद्देश्य हासिल किया जाए, मित्रता को विकसित किया जाए और स्वंय को अपने जुनून के लिए समर्पित किया जाए।

     

    लेखक के बारे में

    हेक्टर गार्सिया जापान के नागरिक हैं, जहाँ कि वह एक दशक से अधिक समय से रह रहे हैं। वह स्पेन के भी नागरिक हैं, जहाँ कि उनका जन्म हुआ था। वह जापानी संस्कृति के बारे में कर्इ पुस्तकों के लेखक हैं जिनमें से दो पुस्तकें – अ गीक इन जापान और इकिगार्इ दुनिया की बेस्टसेलर्स में शुमार हैं। पूर्व में सॉफ़्टवेयर इंजीनियर रहे हेक्टर जापान में बसने से पहले स्विट्ज़रलैंड के सी र्इ आर एन में काम कर चुके हैं।

    फ़्रान्सेस्क मिरालेस बेहतर जीवन कैसे जिएँ विषय पर पुरस्कार प्राप्त अंतरराष्ट्रीय बेस्ट सेलर किताबों के लेखक हैं। साथ ही उन्होंने लव इन स्मॉल लेटर्स और वाबी-साबी उपन्यास भी लिखे हैं। हेक्टर गार्सिया के साथ उनका जापान के ओकिनावा में स्वागत किया गया, जहाँ के निवासी दुनिया की किसी भी अन्य जगह से ज़्यादा लम्बा जीवन जीते हैं। वहाँ उन्हें सौ भी अधिक ग्रामीणों से उनकी लंबी और ख़ुशहाल ज़िंदगी के दर्शन के बारे में साक्षात्कार करने का मौक़ा मिला।

    Ikkigai / Ikigayi

    डीलक्स हार्ड बाउंड एडिशन
    पृष्ठ 194   रु350

    350.00
  • रिच डैड पुअर डैड

    रिच डैड पुअर डैड

    399.00
    Add to cart

    रिच डैड पुअर डैड

    रोबर्ट टी कियोसाकि

    रॉबर्ट कियोसाकी का ‘रिच डैड पुअर डैड’ अब तक की व्यक्तिगत  # 1 वित्तीय पुस्तक बन गया है, जिसका दर्जनों भाषाओं में अनुवाद किया गया और दुनिया भर में बेचा गया।

    ‘सबसे ज्यादा बिकने वाली किताब’

    यह बेस्टसेलिंग पुस्तक सरल भाषा में सिखाती है कि पैसे की सच्चाई क्या है और अमीर कैसे बना जाता है। लेखक के अनुसार दौलतमंद बनने की असली कुंजी नौकरी करना नहीं है, बल्‍कि व्यवसाय या निवेश करना है।

    रॉबर्ट कियोसाकी अंतरराष्ट्रीय भगोड़ा बेस्टसेलर जिसने छह वर्षों से अधिक समय तक न्यूयॉर्क टाइम्स की बेस्टसेलर सूची में शीर्ष स्थान हासिल किया है – एक निवेशक, उद्यमी और शिक्षक हैं, जिनके पैसे और निवेश के दृष्टिकोण चेहरे पर उड़ते हैं।

    डिलीवरी पर नकद / ऑनलाइन पेमेंट  उपलब्ध
    पृष्ठ 215   रु399

    399.00
  • सपनों का पेड़

    270.00
    Add to cart

    सपनों का पेड़

    सपनों का पेड़
    कृष्ण कुमार

    कई बार कुछ चीज़ें, हमारे जीवन में बिना कोई प्रश्न खड़ा किए, पूरी मासूमियत और स्वाभाविकता से आकर शामिल हो जाती हैं, हम देख भी नहीं पाते कि उन्होंने हमारे साथ क्या किया, कृष्ण कुमार अक्सर इन्हीं चीज़ों की आवाजाही को पकड़ते हैं, और एक ऐसी सुथरी, संयत, पारदर्शी और अभिव्यक्तिशील भाषा में उन्हें अंकित करते हैं कि फ़ौरन ही उनसे सहमत न हो पाने की कोई गुंजाइश नहीं रहती।

    कृष्ण कुमार विख्यात शिक्षाशास्त्री और समकालीन भारतीय समाज के ‘कैलाइडोस्कोप’ को गहरी और विश्वसनीय संलग्नता, और उतनी ही वस्तुनिष्ठता के साथ देखनेवाले गद्यकार हैं। इस पुस्तक में सम्मिलित हर आलेख उनकी चिन्ता और सरोकार की इन विशेषताओं का साक्षी है। प्रकृति, नगर, राज्यसत्ता और व्यापार जगत से लेकर उनकी दृष्टि तितलियों, खिलौनों, साइकिलों, कारों और तरह–तरह के काम करते लोगों तक जाती है। और हर जगह जहाँ वे देखते हैं, चीज़ें अपनी सम्पृक्ति और अलगाव, दोनों के साथ हमें पूरी–पूरी दिखाई देती हैं। उनका बहुपरतीय सत्य, उनके होने के सीधे और टेढ़े अभिप्राय, सब हमारे सामने खुल जाते हैं।

    यह पुस्तक उन पाठकों के लिए अनिवार्य है जो अपने सामाजिक होने को एक दिशा देना चाहते हैं, और उनके लिए भी जिन्होंने काफ़ी समय से किसी उम्दा गद्य को नहीं पढ़ा।

    पृष्ठ 219 रु270

    270.00
  • फिल्में और संस्कृति – धीरज शर्मा

    250.00
    Add to cart

    फिल्में और संस्कृति – धीरज शर्मा

    धीरज शर्मा

    बीते कुछ दशकों के दौरान, भारत की छवि को बिगाड़ने में कुछ हद तक बॉलीवुड की फिल्मों का हाथ है जिनमें मंदिरों और पुजारियों की खिल्ली उड़ाई जाती है, दिखाया जाता है कि बड़े-बड़े संस्थानों के शिक्षकों को पढ़ाना नहीं आता, शिक्षकों को मूर्ख, राजनेताओं को दुष्ट, पुलिस को निर्दयी, अफसरों को संकीर्ण सोचवाला, जजों को अन्यायी, और हिंदी भाषा बोलनेवालों को हीन दृष्टि से देखा जाता है। क्या आपको आश्चर्य नहीं होता कि बॉलीवुड के फिल्मी गाने और डायलॉग उर्दू में ही क्यों लिखे जाते हैं जबकि बहुत कम ही लोग उर्दू को समझ पाते हैं? क्या आपको इस पर भी आश्चर्य नहीं होता कि हाल की बॉलीवुड की फिल्मों का हीरो कभी मंदिर क्यों नहीं जाता? आखिर क्यों बॉलीवुड की अधिकांश फिल्मों के हीरो अगर हिंदू हैं तो आम तौर पर धर्म का पालन नहीं करते जबकि सारे मुसलमानों को धर्मनिष्ठ दिखाया जाता है? आखिर क्यों कोर्ट-रूम वाली फिल्मों में भी अब भगवद्गीता पर हाथ रख कर किसी व्यक्ति के द्वारा कसम खाने वाले सीन गायब हो गए हैं? क्यों बॉलीवुड की फिल्मों की पृष्ठभूमि में भारतीय ध्वज भी नहीं दिखता? ये महत्त्वपूर्ण प्रश्न हैं जिनकी तह तक जाने की आवश्यकता है। इस पुस्तक का प्रयास है कि इनमें से कुछ प्रश्नों के उत्तर दिए जाएँ। समाज की सोच बनाने में फिल्मों की एक बड़ी भूमिका होती है और इस कारण परदे पर जो कुछ भी दिखाया जाता है, उसे लेकर बॉलीवुड को कहीं-न-कहीं अपनी जिम्मेदारी निभाने की जरूरत है।

    प्रोफेसर धीरज शर्मा एक जाने-माने मैनेजमेंट प्रोफेसर और भारतीय प्रबंधन संस्थान, रोहतक के निदेशक हैं। वह भारतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद में भी प्रोफेसर (सावकाश) हैं। वह साल 2019 के लिए एकेडमी ऑफ ग्लोबल बिजनेस एडवांसमेंट (अमेरिका) के विशिष्ट ग्लोबल थॉट लीडर हैं। उन्होंने यूरोप, एशिया और उत्तरी अमेरिका के अनेक शिक्षण संस्थानों में अध्यापन किया है। अब तक उनकी 10 पुस्तकें और 150 से अधिक शोध-पत्र प्रकाशित हो चुके हैं। आज भी वह अनेक सरकारी व गैर-सरकारी संगठनों के प्रबंधन बोर्ड में सेवा दे रहे हैं। वह हरियाणा सरकार की आर्थिक सलाहकार परिषद् के सदस्य हैं। वह जेलों के आधुनिकीकरण पर पंजाब सरकार के सलाहकार भी हैं। वह तेजपुर यूनिवर्सिटी में राष्ट्रपति के मनोनीत व्यक्ति, दिल्ली यूनिवर्सिटी के मानद प्रोफेसर जवाहरलाल यूनिवर्सिटी के मानद प्रोफेसर और हृढ्ढञ्जढ्ढश्व मुंबई की अकादमिक परिषद् के बाहरी सदस्य भी हैं। वह डिग्री विशिष्टता पर यूजीसी की स्थायी समिति के सदस्य भी हैं। वह इमर्जिंग इकोनॉमिक केस जर्नल के मुख्य संपादक और जर्नल ऑफ मार्केटिंग चैनल्स के पूर्व सहयोगी संपादक भी हैं।

    पृष्ठ  208 रु250

    250.00
  • जाति व्यवस्था और पितृसत्ता – पेरियार ई.वी. रामासामी

    175.00
    Add to cart

    जाति व्यवस्था और पितृसत्ता – पेरियार ई.वी. रामासामी

    जाति व्यवस्था और पितृसत्ता
    पेरियार ई.वी. रामासामी

    ‘जाति और पितृसत्ता’ ई.वी. रामासामी नायकर ‘पेरियार’ के चिन्तन, लेखन और संघर्षों की केन्द्रीय धुरी रही है। उनकी दृढ़ मान्यता थी कि इन दोनों के विनाश के बिना किसी आधुनिक समाज का निर्माण नहीं किया जा सकता है। जाति और पितृसत्ता के सम्बन्ध में पेरियार क्या सोचते थे और क्यों वे इसके विनाश को आधुनिक भारत के निर्माण के लिए अपरिहार्य एवं अनिवार्य मानते थे? इन प्रश्नों का हिन्दी में एक मुकम्मल जवाब पहली बार यह किताब देती है।

    इस संग्रह के लेख पाठकों को न केवल पेरियार के नज़रिए से बख़ूबी परिचित कराते हैं बल्कि इसकी भी झलक प्रस्तुत करते हैं कि पेरियार जाति एवं पितृसत्ता के विनाश के बाद किस तरह के सामाजिक सम्बन्धों की कल्पना करते थे। इन लेखों को पढ़ते हुए स्त्री-पुरुष के बीच कैसे रिश्ते होने चाहिए, इसकी एक पूरी तस्वीर सामने आ जाती है। इस किताब के परिशिष्ट खंड में पेरियार के सम्पूर्ण जीवन का वर्षवार लेखा-जोखा प्रस्तुत किया गया है। पेरियार क़रीब 94 वर्षों तक जीवित रहे और अनवरत अन्याय के सभी रूपों के ख़िलाफ़ संघर्ष करते रहे। इस दौरान उन्होंने जो कुछ लिखा-कहा, उसमें से उनके कुछ प्रमुख उद्धरणों का चयन भी परिशिष्ट खंड में है। यही नहीं, इस खंड में तीन लेख पेरियार के अध्येताओं द्वारा लिखे गए हैं। पहले लेख में प्रसिद्ध विदुषी ललिता धारा ने महिलाओं के सन्दर्भ में पेरियार के चिन्तन, लेखन और संघर्षों के विविध आयामों को प्रस्तुत किया है। दूसरा और तीसरा लेख पेरियार के सामाजिक सघर्षों का एक गहन और विस्तृत विश्लेषण प्रस्तुत करता है। इनके लेखक टी. थमराईकन्न और वी. गीता तथा एस.वी. राजादुरै हैं। ये तीनों लेखक पेरियार के गम्भीर अध्येता माने जाते हैं। किताब का यह अन्तिम हिस्सा उनके चिन्तन, लेखन और संघर्षों के विविध चरणों की विस्तृत रूपरेखा प्रस्तुत करता है।

    पृष्ठ-150 रु175

    175.00
  • सिक्स भाईयों से कृछ बातें

    सिक्स भाईयों से कृछ बातें

    40.00
    Add to cart

    सिक्स भाईयों से कृछ बातें

    मक्खन सिंह जौहल

    मक्खन सिंह जौहल लेखक नहीं है और न ही उसने कभी लेखक होने का दावा किया है। वह मार्क्सवादी विचारधारा को मानने वाला सियासी व्यक्ति है। शब्द चीज़ है । इसलिए इसके स्थान पर हमें ‘ राजनैतिक व्यक्ति वाक्य का उपयोग करना पडेगा। मार्क्सवादी फलसफा और विधि-विज्ञान प्रारंभ से ही उसकी रग-रग में समाया हुआ है। क्योंकि यह विद्या उसे विरासत में मिली है। कामरेड बूझा सिंह जी उसके नाना जो थे। इस पुस्तक में शामिल सभी निबंध विदेशों के पंजाबी अखबारों में प्रकाशित हो चुके हैं । इन निबंधों का अध्यन करने पर यह स्वत: ही स्पष्ट हो जाएगा कि साथी मक्खन सिंह जौहल ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय हल्कों में घटने वाली राजनैतिक घटनाओं का चेतन्य तौर पर नोटिस लिया है| उनके बारे में टिप्पणियां की हैं, उनका विशलेषण और मूल्यांकन किया है तथा भविष्य के बारे में अपने अनुमान और परिकल्पनाएं पेश की हैं |

    ऐतिहासिक पदार्थवादी उसका रास्ता है और द्वंद उसका विधि-विज्ञान । कठिन विषयों को उसने बहुत ही सरल भाषा में हमें समझाने का प्रयास किया है । उसका मकसद, आम लोगों को इन घटनाओं की जानकारी देते हुए उन्हें तथ्यों से आगाह करने के साथ-साथ इनके अच्छे-बुरे पक्षों से सचेत करना भी था। अपनी जमाती लड़ाई लड़ने का उसका यह अपना ढंग है । उसने जमाती संघर्ष का हथियार अपनी कलम को बनाया है। वह सिर्फ कलमी सिपाही ही नहीं है अपुति इंगलैंड में चल रहे जमाती-संघर्ष में तन, मन और धन से शामिल भी है । आम आदमी की विशेष के साथ हो रही लड़ाई से लेकर उसकी लड़ाई पूँजीवाद और साम्राज्यवाद के प्रतिदिन बदल रहे घिनौने रूपों के खिलाफ चलती है । वह राजनैतिक लेखक है, उसे कलम के स्वर के बारे में पता है । उसके इस प्रयास का मैं स्वागत करता हूँ ।

    स्वरन चंदन (डा.)

     

    रु 40

    40.00