राही मासूम रज़ा द्वारा पुस्तकें

Books by Rahi Masoom Reza [राही मासूम रज़ा] – Buy Online

Showing all 4 results

Show Grid/List of >5/50/All>>
  • ओस की बूँद - राही मासूम रज़ा

    ओस की बूँद – राही मासूम रज़ा

    160.00
    Add to cart

    ओस की बूँद – राही मासूम रज़ा

    ओस की बूँद

    राही मासूम रज़ा

    राही मासूम रज़ा ने ‘आधा गाँव’ लिखकर हिन्दी-उपन्यास में अपना एक सुनिश्चित स्थान बनाया था। ‘टोपी शुक्ला’ उनका दूसरा सफल उपन्यास था और यह उनका तीसरा उपन्यास है।

    यह उपन्यास हिन्दू-मुस्लिम समस्या को लेकर शुरू होता है लेकिन आख़िर तक आते-आते पाठकों को पता चलता है कि हिन्दू-मुस्लिम समस्या वास्तव में कुछ नहीं है, यह सिर्फ़ राजनीति का एक मोहरा है, और जो असली चीज़ है वह है इंसान के पहलू में धड़कनेवाला दिल और उस दिल में रहनेवाले जज़्बात; और इन दोनों का मजहब और जात से कोई ताल्लुक नहीं। इसीलिए साम्प्रदायिक दंगों के बीच सच्ची इंसानियत की तलाश करनेवाला यह उपन्यास एक शहर और एक मजहब का होते हुए भी हर शहर और हर मजहब का है ! एक छोटी-सी ज़िंदगी की दर्द भरी दास्तान जो ओस की बूँद की तरह चमकीली और कम-उम्र है।

    पृष्ठ-152 रु160

    160.00
  • कारोबारे तमन्ना - राही मासूम रज़ा

    कारोबारे तमन्ना – राही मासूम रज़ा

    300.00
    Add to cart

    कारोबारे तमन्ना – राही मासूम रज़ा

    कारोबारे तमन्ना

    राही मासूम रज़ा

    समस्या बड़ी हो या छोटी, उसका प्रभाव समाज के छोटे-से हिस्से पर हो या देशव्यापी हो, नियम-क़ानून द्वारा उस पर कितना क़ाबू किया जा सकता है? यह मुद्दा विचारणीय है। यह वास्तविकता है कि समस्या की जड़ में जाकर मूल कारणों की पहचान की जाए तो समस्या से मुक्ति मिल सकती है। इस दिशा में रचनाकार की भूमिका महत्त्वपूर्ण होती है। वह समस्या की जड़ में जाकर मूल कारणों की न केवल पहचान करता है, बल्कि उनके विरुद्ध अवाम की मानसिकता का निर्माण करने की ज़िम्मेदारी भी निभाता है।

    वेश्यावृत्ति का ज्वलन्त मुद्दा उपन्यास ‘कारोबारे तमन्ना’ के केन्द्र में है। निम्नवर्गीय मुस्लिम समाज की आर्थिक और सामाजिक पृष्ठभूमि में वेश्यावृत्ति के कारणों की जाँच-पड़ताल की गई है। उपन्यास वेश्याओं की जटिल जीवन-शैली और उस वृत्ति के निर्माण की पूरी प्रक्रिया को यथार्थ के धरातल पर प्रस्तुत करता है। यह रचना अपनी सम्पूर्णता में उसका विरोध भी करती है।

    राही मासूम रज़ा के औपन्यासिक कर्म की मुख्यधारा के बरक्स ‘कारोबारे तमन्ना’ की ख़ूबी इसके दिलचस्प होने में है। यह अपने कथ्य के आधार पर विशिष्ट है। हिन्दी साहित्य की मुख्यधारा में लिखे उपन्यासों से इतर राही ने शाहिद अख़्तर और आफ़ाक़ हैदर नाम से उर्दू भाषा में कई उपन्यासों की परम्परा में परिगणित होने के कारण कभी चर्चा के लायक़ ही नहीं समझे गए।

    ‘कारोबारे तमन्ना’ को डॉ. एम. फ़िरोज़ खाँ ने लिप्यन्तरित कर हिन्दी पाठकों के लिए उपलब्ध कराया है।

    राही मासूम रज़ा के असंख्य पाठकों हेतु एक संग्रहणीय पुस्तक।

    पृष्ठ-140 रु300

    300.00
  • सीन : 75 - राही मासूम रज़ा

    सीन : 75 – राही मासूम रज़ा

    50.00
    Add to cart

    सीन : 75 – राही मासूम रज़ा

    सीन : 75

    राही मासूम रज़ा

    “अली अमजद से मिलाया था न मैंने तुमको?”

    “वह राइटर?”

    “हाँ!”

    “हाँ-हाँ यार, याद आ गया। बड़ा मज़ेदार आदमी है।”

    “उसी का तो चक्कर है।” हरीश ने कहा, “आज ही प्रीमियर है। और वह मर गया। समझ में नहीं आता क्या करूँ?”

    “मर कैसे गया?”

    “पता नहीं। मैं अभी वहीं जा रहा हूँ।”

    आईने में उसने अपने चेहरे को उदास बनाकर देखा। उसे अपना उदास चेहरा अच्छा नहीं लगा। उसने आँखों को और उदास कर लिया…

    अली अमजद मरा नहीं, क़त्ल किया गया है। और उसे क़त्ल किया है इस जालिम समाज, बेमुरव्वत हालात और इस बेदर्द फ़िल्म इंडस्ट्री ने…

    उसने गरदन झटक दी। बयान का यह स्टाइल उसे अच्छा नहीं लगा।

    मेरा दोस्त अली अमजद एक आदमी की तरह जिया और किसी हिन्दी फ़िल्म की तरह बिला वज़ह ख़त्म हो गया।…

    दाढ़ी बनाते-बनाते उसने अपना बयान तैयार कर लिया। और इसलिए जब वह अली अमजद के फ़्लैट में दाख़िल हुआ तो वह बिलकुल परेशान नहीं था।

    हिन्दी फ़िल्म उद्योग की चमचमाती दुनिया की कुछ स्याह और उदास छवियों को बेपर्दा करता उपन्यास।

    पृष्ठ-130 रु50

    50.00
  • हिम्मत जौनपुरी - राही मासूम रज़ा

    हिम्मत जौनपुरी – राही मासूम रज़ा

    75.00
    Add to cart

    हिम्मत जौनपुरी – राही मासूम रज़ा

    हिम्मत जौनपुरी

    राही मासूम रज़ा

    ‘हिम्मत जौनपुरी’ एक ऐसे निहत्थे की कहानी है जो जीवन-भर जीने का हक़ माँगता रहा, सपने बुनता रहा, परन्तु आत्मा की तलाश और सपनों के संघर्ष में उलझकर रह गया। यह बम्बई के उस फ़िल्मी माहौल की कहानी भी है जिसकी भूल-भुलैया और चमक-दमक आदमी को भटका देती है और वह कहीं का नहीं रह जाता।

    राही मासूम रज़ा की चिर-परिचित शैली का ही कमाल है कि इसमें केवल सपने या भूल-भुलैया का तिलस्मी यथार्थ नहीं, बल्कि उस समाज की भी कहानी है, जिसमें जमुना जैसी पात्र चाहकर भी अपनी असली ज़िन्दगी बसर नहीं कर सकती। एक तरफ़ इसमें व्यंग्यात्मक शैली में सामाजिक खोखलेपन को उजागर करता यथार्थ है तो दूसरी तरफ़ हैं भावनाओं की उत्ताल लहरें।

    राही मासूम रज़ा साहब ने ‘हिम्मत जौनपुरी’ को माध्यम बनाकर एक ऐसे सामान्य व्यक्ति के अरमान के टूटने और बिखरने को जिस नए अन्दाज़ और तेवर के साथ लिखा है, वह उनके अन्य उपन्यासों से बिलकुल अलग है।

    पृष्ठ-125 रु75

    75.00