Jyotiba Phule: Books

Books by Jyotiba Phule | Books on Jyotiba Phule | जोतिबा फुले | Buy Onlline

Showing all 2 results

Show Grid/List of >5/50/All>>
  • महात्मा जोतिबा फुले रचनावली : खंड 1-2 – महात्मा जोतिबा फुले

    600.00
    Add to cart

    महात्मा जोतिबा फुले रचनावली : खंड 1-2 – महात्मा जोतिबा फुले

    महात्मा जोतिबा फुले रचनावली : खंड 1-2
    महात्मा जोतिबा फुले

    यह किताब जोतिबा फुले (जोतिराव गोविन्दराव फुले : 1827-1890) की सम्पूर्ण रचनाओं का संग्रह है। सन् 1855 से सन् 1890 तक उन्होंने जितने ग्रन्थों की रचना की, सभी को इसमें संगृहीत किया गया है। उनकी पहली किताब ‘तृतीय रत्न’ (नाटक) सन् 1855 में और अन्तिम ‘सार्वजनिक सत्यधर्म’ सन् 1891 में उनके परिनिर्वाण के बाद प्रकाशित हुई थी।

    जोतिराव फुले की कर्मभूमि महाराष्ट्र रही है। उन्होंने अपनी सारी रचनाएँ जनसाधारण की बोली मराठी में लिखीं। उनका कार्य और रचनाएँ अपने समय में भी विवादास्पद रहीं और आज भी हैं। लेकिन उनका लेखन हर पीढ़ी में सामाजिक क्रान्ति की चेतना जगाता रहेगा, इसमें कोई सन्देह नहीं।

    उनकी यह रचनावली उनके कार्य और चिन्तन का ऐतिहासिक दस्तावेज़ है।

    पृष्ठ 695 रु600

    600.00
  • भारतीय समाज क्रान्ति के जनक महात्मा जोतिबा फुले – डॉ. म.ब. शहा

    95.00
    Add to cart

    भारतीय समाज क्रान्ति के जनक महात्मा जोतिबा फुले – डॉ. म.ब. शहा

    भारतीय समाज क्रान्ति के जनक महात्मा जोतिबा फुले
    डॉ. म.ब. शहा

    भारतीय समाज-क्रान्ति के जनक महात्मा जोतिबा फुले को समूचे महाराष्ट्र में सम्मान के साथ ‘जोतिबा’ कहा जाता है।

    कोल्हापुर के पास ही एक पहाड़ी पर देवता जोतिबा का मंदिर है। इन्हें जोतबा भी कहते हैं। देवता के नाम में आता है ‘जोत’। यह ‘जोत’ बहुत से मराठों का कुल-देवता है। ‘जोतबा’ देवता का उत्सव था उस दिन, जब महात्मा फुले का जन्म हुआ, इसी से उनका नाम ‘जोतिबा’ रखा गया। भारतीय समाज के महान चरित नायक जोतिबा ने क्रान्ति का बीज बोया। दलितों के उत्थान के लिए संघर्ष किए, जिसके कारण उन्हें अपने ही समाज में प्रताड़ित होना पड़ा, परन्तु सत्य ही उनका सम्बल था। उन्हें समाजद्रोही और धर्मद्रोही कहा गया, लेकिन इस विद्रोही संन्यासी को कोई झुका नहीं सका।

    अन्ततः जोतिबा को सफलता मिली। उनके जुझारू व्यक्तित्व और आत्मविश्वास से गूँजती हुई आवाज़ ने सोए हुए महाराष्ट्र को जगा दिया। वह श्रेष्ठ वक्ता तो थे ही, साहित्य-रचना में भी अपना विशेष स्थान रखते थे।

    पृष्ठ-107 रु95

     

    95.00